.

Tuesday, February 12, 2019

नाशाद | Urdu Shayari


कभी दिल को बेवजह ही नाशाद किया,
तुझे फुर्सत निकाल कर याद किया ।


No comments:

Post a Comment