.

Sunday, April 7, 2019

तजुर्बा | Hindi Poetry


तजुर्बा मुहब्बत का मिरे काम नहीं आया,
उनकी कहानी में मेरा नाम नहीं आया ।


No comments:

Post a Comment