.

Monday, April 8, 2019

तक़रीरें | LOVE Shayari


मुस्तक़िल उनसे मेरी तक़रीरें होती रही,
ख़ामोशियाँ चीखती रही और आवाज़ें सोती रही ।


No comments:

Post a Comment