बेजुबां | हिंदी दिवस

अगर तुम ना होती,
तो हम भी ना होते,
इश्क बेजुबां सा होता,
और ज़ज्बात भी खामोश होते ♥♥
मेरी बातमेरे
ज़ज्बात
,
मेरी आवाज़, मेरे
अल्फ़ाज़
,
मेरे लफ्ज़, मेरी
नब्ज़
,
मेरी हकीकत, मेरे
ख्व़ाब
 ♥♥

ये ख़लिश, ये कशिश,
ये इंतज़ार, मेरा
इज़हार
,
मेरी इबादत, मेरा
प्यार
,
ये धुप और तुम छाया,
मेरी तन्हाईमेरा साया ♥♥
मेरी सांस, मेरे
एहसास
,
मेरी तड़प, मेरी
प्यास
,
मेरा दर्द, मेरा
सुकून
,
मेरा इश्क़, मेरा
जुनून
 ♥♥
महोब्बत हो गयी है तुमसे 
शुक्रिया, हिंदी 
हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनायें |


Tagged , , ,

4 thoughts on “बेजुबां | हिंदी दिवस

    1. शुक्रिया |

    1. Shukriya 🙂

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *