दीवाना | रोमांटिक शायरी

बार-बार
छेड़ने का बहाना चाहिए
,
ज़ुल्फ़ को हवा सा दीवाना चाहिए ।
Tagged , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *