हर राह पर इश्क के

♥♥ वफ़ा ढूँढने चले थे,
हर राह पर इश्क के खरीददार निकले,
जिसे हम प्यार की मूरत समझ बैठे थे,
वो बाज़ार-ए-इश्क के सबसे बड़े ज़मींदार निकले ♥♥


Poetry Written By – MS Mahawar


Tagged , , ,

2 thoughts on “हर राह पर इश्क के

  1. This one is amazing.
    Nice shayaari yaar… dil ko chuu gaya..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *