इक आदमी | हिंदी कविता

चेहरे पे उदासी लिए शहर में घूमता रहा,
वो इक आदमी जो खुशियाँ
बेचने आया था
|


Tagged , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *