अँधेरा | हिंदी शायरी

जिसे तू अपना समझ बैठा है,
वो तेरा नहीं है,
हर इक आदमी के अंदर अँधेरा
है,
कहीं सवेरा नहीं है |

Tagged , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *