Category: Uncategorized

iSHQ Pighlega | हिंदी शायरी

तिरी यादों की आंच से जब इश्क पिघलेगा, लहूँ बन कर आँख से बाहर निकलेगा ।

Read more

एतिबार | Ektarfa Pyaar

  उनकी ख़ामोशी पे इतना एतिबार किया, उनकी ना का भी उम्र भर इंतिज़ार किया ।

Read more

ज़ुल्फ़ | Romantic Shayari

हवा भी बचकर निकलती है, उनके आरिज़ पे जब ज़ुल्फ़ गिरती है ।

Read more

तदबीर | Urdu Couplet

मिरे हर ख़्याल की तस्वीर तू है, दिल के ज़ख्मों की तदबीर तू है, लाख दिल को समझाया मगर, मिरे टूटे ख़्वाबों की तकदीर तू है ।

Read more

इंतिज़ार | Hindi Poetry

उनके घर से निकलने के इंतिज़ार में है, “मैं” नहीं मेरा इंतिज़ार तेरे प्यार में है ।

Read more

आरिज़ | Urdu Shayari

अब बात आगे भी तो कैसे बढ़ाएं, वो पहले अपने आरिज़ से गेसू तो हटाएं ।

Read more

वो कौन था | Pyar Shayari

उम्र भर साथ रहा मगर कभी छुआ नहीं, वो कौन था जो मेरा होकर भी मेरा हुआ नहीं ।

Read more

तसल्ली | Urdu Sher

मिरी मुस्कुराहट देखकर उन्होंने तसल्ली कर ली, हमेशा ख़ुश रहना मुहब्बत का सलीका नहीं दोस्त ।

Read more

बर्क़-ए-जमाल-ए-यार | Urdu Shayari

बर्क़-ए-जमाल-ए-यार हमसे सहा ना गया, अँधे हो गए मगर देखें बिना रहा ना गया ।

Read more

मुस्कुराए | Hindi Poetry

कोई भला अब मुस्कुराए भी तो कैसे, जो नहीं है वो नज़र आए भी तो कैसे, जिन्हें याद कर हम हर पल जीये, उन्हें अब भूलकर मर जाए भी तो कैसे ।

Read more