इंतिज़ार | Hindi Poetry

उनके
घर से निकलने के इंतिज़ार में है
,
मैं नहीं मेरा इंतिज़ार तेरे प्यार में है ।
Tagged , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *