फ़ितूर-ए-इश्क़ | Infinite Love

दिल से जो फ़ितूर-ए-इश्क़ नहीं जाता,
उन खिड़कियों से जो अब चाँद नज़र नहीं आता,

भीगती है पलकें दर्द की बारिशों में,
एक तूफ़ान जो मेरे अंदर है क्यों गुज़र नहीं जाता ♥♥


Tagged , , , , , ,

4 thoughts on “फ़ितूर-ए-इश्क़ | Infinite Love

  1. You are fantastic in romantic poetry!

    1. Thank you so much Brother 🙂

  2. Indeed amazing!

    1. Thank you Maitreni 🙂

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *