तेरी जान | Infinite LOVE

रात भी मुझपे मुस्कुराने लगी है,
हवायें भी मुझे चिढ़ाने लगी है,
वो कौनसी ख़ुशबू है
जिससे परेशान है तू,
वो कौनसी याद है
जिससे तेरी जान जाने लगी है ♥♥



Tagged , , , , , , , ,

4 thoughts on “तेरी जान | Infinite LOVE

  1. wah bahut khoob

    1. shukriya dost 🙂

  2. Evergreen Shayari by you..

    1. THank you so much Roohi 🙂
      Keep visiting my blog!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *