Khwaabon Mein | Love Poems

कल फिर मिला मैं तुझसे ख़्वाबों में,
दिल को कुरेदती उन तनहा रातों में,
दिल ने रोका मुझे आगे बढ़ने से,
कि मत डूब उन बेमतलब ज़ज्बातों में ♥♥
                                                                              
जो लब्ज़ तूने मुझसे नहीं कहे,
मैंने पढ़ा है उन्हें तेरी आँखों में,
शायद मैं कभी खुद को भी भूल जाऊं,
मगर तू आज भी मौजूद है मेरी साँसों
में
 ♥♥

तू मुझसे दूर सही,
मगर दिल आज भी धड़क रहा है तेरे
एहसासों में
,
भीगता हूँ बारिशों में तुझे सोचकर,
मगर अब वो बात नहीं है इन बरसातों
में
 ♥♥
हँसी भी खो गयी है मेरे लबों से
कहीं
,
                        तेरा हाथ जो नहीं है अब मेरे हाथों में,
ज़िन्दगी तो कब का मुंह मोड़ चुकी है,
थोड़ी सी जो बची है वो कट रही है
तेरी यादों में
 ♥♥


Tagged , , , , , , , , , , ,

4 thoughts on “Khwaabon Mein | Love Poems

    1. शुक्रिया |

  1. Well written 🙂

    1. THanks Purba 🙂

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *