Meri Khamoshi | Infinite Love

मेरी ख़ामोशी मुझसे
सवाल करती है
,
दिल जानता है धड़कने
जवाब से डरती है
,
मेरी हसरतें जो हर
रोज़ मरती है
,
यादें तेरी हर पल
बेचैन करती है 
♥♥

नज़रें तेरी जब मेरी
ओर देखती हैं
,
बात दिल की जबां पे
ठहरती है
,
धड़कने मेरी तुझपे ही रूकती है,
चेहरें पे तेरे जब मुस्कुराहटें बिखरती है ♥♥
साँसे मेरी मुझसे हर
रोज़ लड़ती है
,
याद तेरी जब मेरी
रूह से गुज़रती है
,
धड़कने भी जैसे तुझसे
ही चलती है
,
ऐ मेरे दिल ये तेरी
कैसी खुदगर्ज़ी है
♥♥


Indian Bloggers
Tagged , , , , ,

4 thoughts on “Meri Khamoshi | Infinite Love

  1. Mara diya yaar tumne…you are one of the best around me in Hindi romantic poems!

    1. Thank you brother 🙂

    1. Thank you Purba 🙂

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *