Mukammal | Infinite Love

तन्हाइयों के सायों में जब ये शाम ढलती है,
तुझे याद कर ये अधूरी ज़िंदगी मुकम्मल सी लगती है ♥♥


Tagged , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *