Phir Wo Tanha Raat Naa Aaye | Love Poems

फिर वो तनहा रात ना आये,
उस तन्हाई में तेरी याद ना आये,
कोशिश यही मैं बार-बार करूँ ♥♥
तेरी सुकून को तरसती धड़कन को सुनकर महसूस किया,
की दुनिया भूलकर मैं तो सिर्फ तुझसे प्यार करूँ ♥♥
मेरे दिल में तू ही, धड़कन में तू ही,
कैसे मैं तुझसे ये इज़हार करूँ ♥♥

तू जब मेरा हाथ थामकर मेरी ओर ताके,
तो अब कैसे में तुझसे इनकार करूँ ♥♥
कोई दर्द ना हो अब रूह को तेरी,
तेरी हर सांस में, मैं अपनी सांस भरूँ ♥♥
उलझा दिया है तेरी जुल्फों ने तेरी उलझन में
मुझे,
अब तेरे संग जी लूँ या तुझ बिन मरूं ♥♥
तेरी ख़ामोशी भी छू जाये दिल को मेरे,
जब भी मैं तुझसे बात करूँ ♥♥
तेरी हर सांस पर भी हो नाम मेरा,
जब भी तन्हाई में, मैं तुझे याद करूँ ♥♥
तू हक़ीकत है या तुझे कोई ख्वाब कहूँ,
जब चाँद नज़र आये आसमां पे मुझे,
उसकी बिखरी चांदनी में तेरा दीदार करूँ ♥♥
तेरे लबों की हँसी ही है हर ख्वाब मेरा,
मैं तो बस मेरे ख़्वाबों के लिए जीउँ,
और मेरे ख़्वाबों के लिए मरूं ♥♥



Tagged , , ,

6 thoughts on “Phir Wo Tanha Raat Naa Aaye | Love Poems

  1. बहुत सुंदर.

    1. धन्यवाद.

  2. Bahut khoob!

    1. धन्यवाद.

  3. बहुत अच्छे

    1. धन्यवाद.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *