Shaam Bhi Khamosh Ho Jayegi | Love Poems

मैं मेरे दिल में तेरी
यादों का एक घर बनाऊंगा,
उस घर के हर एक कोने को
तेरे एहसास से सजाऊंगा
♥♥
दिल को कभी ना लगे की तनहा
हूँ मैं,
मेरी हर एक धड़कन में तेरा
ख्याल बसाऊंगा
♥♥
जब भी सतायेंगी तेरी यादें
मुझे,
मैं तन्हाइयो के गीत
गुनगुनाऊंगा
♥♥

मुस्कुराहने की कोई वजह
नहीं है अब ज़िन्दगी में,
मगर तेरी ख़ुशी के लिए मैं
दर्द में भी मुस्कुराऊंगा
♥♥
मैं जो इस इश्क की राह पे
चल पड़ा हूँ,
अब ना रुकूंगा कहीं बस चलते
ही जाऊँगा
♥♥
दर्द में जीना और तुझसे
महोब्बत करना फितरत है मेरी,
अब मैं इस दरिया-ए-महोब्बत में डूबता ही जाऊँगा ♥♥
शाम भी खामोश हो जाएगी,
जब मैं मर जाऊंगा,
तुम मुस्कुरा कर भी मुस्कुरा ना पाओगी,
जब मैं ये दुनिया छोड़कर चला जाऊँगा ♥♥


Keyword Tag – Sad Love Poems, True Love, I Miss You, Lost Love, Broken Heart, Loneliness, Love Meter, Alone In Love, Crying In love, Hindi Love Poems

Tagged , , , , , , ,

4 thoughts on “Shaam Bhi Khamosh Ho Jayegi | Love Poems

  1. Is it a dejected lover ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *