Tag: Urdu Sad

इंतिज़ार | Hindi Poetry

उनके घर से निकलने के इंतिज़ार में है, “मैं” नहीं मेरा इंतिज़ार तेरे प्यार में है ।

Read more

आरिज़ | Urdu Shayari

अब बात आगे भी तो कैसे बढ़ाएं, वो पहले अपने आरिज़ से गेसू तो हटाएं ।

Read more

वो कौन था | Pyar Shayari

उम्र भर साथ रहा मगर कभी छुआ नहीं, वो कौन था जो मेरा होकर भी मेरा हुआ नहीं ।

Read more

तसल्ली | Urdu Sher

मिरी मुस्कुराहट देखकर उन्होंने तसल्ली कर ली, हमेशा ख़ुश रहना मुहब्बत का सलीका नहीं दोस्त ।

Read more

बर्क़-ए-जमाल-ए-यार | Urdu Shayari

बर्क़-ए-जमाल-ए-यार हमसे सहा ना गया, अँधे हो गए मगर देखें बिना रहा ना गया ।

Read more

मुस्कुराए | Hindi Poetry

कोई भला अब मुस्कुराए भी तो कैसे, जो नहीं है वो नज़र आए भी तो कैसे, जिन्हें याद कर हम हर पल जीये, उन्हें अब भूलकर मर जाए भी तो कैसे ।

Read more

मुहब्बत बूढ़ी | Urdu Poetry

चार कदम चली और थक कर सो गई, कच्ची उम्र में मुहब्बत बूढ़ी हो गई ।

Read more

दिल की बस्ती | Unrequited LOVE

एक पल में दिल की बस्ती उजड़ गयी, वो हुस्न में लिपटा कोई सैलाब था |

Read more

मन | HOPELESS

सिर्फ़ अँधेरों में रहकर सुकून मिलता है मुझे, ये उजालों में रहने वाले लोग मन के काले बहुत है |

Read more

संगीन | Unrequited LOVE

माना की इश्क़ में कई काम किये हैं संगीन, ऐ इश्क़ मगर तू मुझे मुझसे मत छीन ♥♥

Read more