Ungaliyaan Teri Julfon Se | Love Poems

उंगलियाँ
फिर तेरी जुल्फों से गुज़र जायेँ
,
जब
तू पलकें झुकाकर मेरी ज़िन्दगी में चली आये

|
तुझमें
खोकर खुद को पा लूँ मैं
,
जब
साँसे तेरी मेरी रुह को छु जायें |
हर
लम्हा पूरी ज़िन्दगी लगे मुझे,
जब
तू नज़रे चुराकर मुझसे शर्माएं |

हर
अक्स तड़प उठता है मेरा तुझे छूने की खातिर,
जब
भी तू मुझे नज़र आये |
मेरे
लबों से तेरी हर सांस को इस तरह पी लूँ मैं,
की
मेरे जिस्म के हर हिस्से में तू ही नज़र आये |
मैं
मर कर भी जिन्दा रहूँ तुझ में कहीं,
जब
दिल में उतर कर तू मेरी धड़कन बन जायें |


Tagged , , , ,

6 thoughts on “Ungaliyaan Teri Julfon Se | Love Poems

  1. Kya baat kya baat 🙂

    1. THank You 🙂

  2. Beautiful…

    1. THank you 🙂

  3. Bahut sundar. Aise hi likhte raho!

    1. Shukriya 🙂

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *