मक़ाम | Unrequited LOVE

मोहब्बत ही मेरा आख़िरी मक़ाम ना हो जाये,
तेरे
इंतज़ार में ज़िंदगी की शाम ना हो जाये
|
Tagged , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *