Day: January 19, 2015

Chaand Aasman Se Laapta Hai | Love Poems

चाँद आसमान से लापता है, ना जाने क्यों मेरा महबूब मुझसे खफा है, मेरे करीब तो है वो, मगर ना जाने क्यों वो मुझसे थोडा जुदा है ♥♥ उसकी आँखें कुछ कहना चाहती है मुझे, शायद उसकी आँखों के काज़ल के पीछे, कोई गहरा राज़ छिपा है ♥♥ शायद कोई तस्वीर है उसकी आँखों में, जिसे […]

Read more