Day: January 23, 2015

Manzil | Lovelorn Poetry

वो हमे भूल गए हैं , मंजिल का पता बताकर, और हम आज भी मंजिल को नहीं, उन्हें ढूँढ रहे हैं ♥♥

Read more