Day: January 25, 2015

Pyaar Ki Shama | Love Poems

दर्द तो बहुत मिले हैं महोब्बत में मुझे, मगर मैं तो तुझे ही चाहता हूँ, तुझे चाहना ही फितरत है मेरी, मैं तो बस अपना फ़र्ज़ निभाता हूँ | सुबह की नयी रौशनी देखकर, मैं दिल में हर रोज़ एक उम्मीद जगाता हूँ, मुझे कहीं तू मिल जायें दर्द बांटने को, मैं तेरी तलाश में […]

Read more