Day: January 27, 2016

ऐ ज़िन्दगी | Hopeless

क्यों मैं इतना उदास हूँ, क्यों मैं खुद से निराश हूँ, ऐ ज़िन्दगी तू क्या जाने टूटते ख्वाबो की चुभन, मैं जिन्दा भी हूँ मगर एक लाश हूँ |

Read more