Month: March 2016

Judaai | Love Poems

महोब्बत तुझसे बेइंतहा की है, तेरे भी इश्क़ में थोड़ी सी तो सच्चाई थी, तनहा नहीं था राह-ए-इश्क़ में कभी, आग इश्क़ की तूने भी तो दिल में लगायी थी ♥♥ मुस्करा जाते थे लब तुझे देखकर, तू भी तो मुझे देखकर मुस्कुराई थी, छु ही लिया जज़्बात-ए-इश्क़ ने मुझे, तूने जो यूँ मुझसे नज़रे […]

Read more

Tujhse Ishq | Infinite Love

तुझसे इश्क़ किया तो मालूम हुआ, किसी के लिये रोना क्या होता है, तुझसे इश्क़ किया तो मालूम हुआ, किसी की याद में खुद को खोना क्या होता है, चाहा जिसे बेइंतहा ज़िन्दगी भर, उसका ना होकर भी दुनिया में होना क्या होता है ♥♥

Read more

Tera Ishq | Infinite Love

आज भी रंग तेरे इश्क का सर से उतरा नहीं है, एक लम्हा भी तुझे याद किये बिना गुज़रा नहीं है ♥♥

Read more

Do Kinaare | Lovelorn

महोब्बत के रास्ते अक्सर लोग अकेले ही चलते हैं, अब दो किनारे किसी नदियां के कहाँ मिलते हैं |

Read more

Teri Hasee | Infinite Love

मैं ना रहूँ कभी, तो तू कभी रोना मत, मैं तेरी हँसी के लिये जीया हूँ, तू इसे कभी खोना मत, तनहा जीया हूँ तेरी याद में उम्र भर, तू मेरी याद में कभी तनहा होना मत ♥♥

Read more

Tera Naam | Infinite Love

दिल की दीवारों पर कहीं तेरा नाम लिखा है, आज फिर तेरा चेहरा मुझे चाँद में दिखा है ♥♥ इंतज़ार है मुझे वो सवेरा होने का, मेरी बाहों में तेरे होने का ♥♥ कैसे कह दूँ कि मुझे ज़िन्दगी से कोई ग़म है, तू जो हो साथ मेरे तो जीने के लिये ये ज़िन्दगी भी […]

Read more

काज़ल | Infinite Love

आज देखा जो मैंने तेरी आँखों में काज़ल, मुझ पर फिर बरस रहे हैं महोब्बत के बादल ♥♥

Read more

सफ़र में | Hopeless

तुझे पाने आये थे इस शहर में, खुद को खोकर लौटे हैं इस सफ़र में ♥♥ हदें क्या पार हुयी महोब्बत में तेरी, तेरी यादों में गुज़र रही है ज़िन्दगी मेरी ♥♥ कसर रह ना जाये कोई महोब्बत में बाकी, जितना तुझे चाहूँ उतना ही है नाकाफ़ी ♥♥

Read more

Ye Zindagi | Infinite Love

बंज़र सी मेरे दिल की ज़मी, तेरी भीगी साँसों को तरसती रही, इंतज़ार किया मैंने तेरा बारिशों सा, मगर सिर्फ आँखें ही बरसती रही ♥♥ मंज़िल तो सिर्फ तू ही है, बस ये राहें बदलती रही, लाख छुपाया ज़माने से मगर, ये महोब्वत मेरे लफ़्ज़ों में झलकती रही ♥♥ ख़ामोश थे तेरे लब मगर, तेरी […]

Read more

Teri Rooh | Infinite Love

कभी तेरे लब मेरे लबों को छु जाये, मेरी रूह का मिलन तेरी रूह से हो जाये, ज़माने की साज़िशों से बेपरवाह हो जाये, मेरे तड़पते ख्वाब कुछ देर तेरी बाहों में सो जाये, मिटा कर फ़ासलें दरमियान इन जज़्बातों में खो जाये, कुछ पल के लिये एक-दूजे के हो जाये ♥♥

Read more