Day: November 13, 2016

रूख़ से | Hindi Poetry

रूख़ से ज़रा अपने ये परदा हटा दो, मेरी ख्वाहिशों के आसमां को चाँद से मिला दो ♥♥

Read more