Day: January 31, 2017

Sard Hawaayein | Hindi Poetry

जब इश्क़ की ये सर्द हवाएँ चलती है, तेरी यादों की गर्मी से दिल पे जमी ये बर्फ पिघलती है, बचता फिरता हूँ इन तन्हाई के बादलों से मैं, मगर हर लम्हा तेरी याद मुझपे बूँद-बूँद गिरती है ♥♥ ढूँढता रहता है दिल किनारा हर कहीं, दरिया-ए-इश्क़ में जो कश्ती है अब संभाले ना संभलती […]

Read more