Month: August 2018

वजूद | Unrequited LOVE

हर बार मोहब्बत ने ये गुनाह किया, अपने वजूद को ख़ुद ही तबाह किया | Keword Tags – Love shayari in hindi, romantic shayari, friendship shayari, shayari sites in hindi, ghalib shayari, shero shayari love hindi, dosti shayari

Read more

मुकम्मल | Unrequited LOVE

मैं इक रात भी मुकम्मल नहीं जीया, अधूरे इश्क़ को भी मैंने पूरा किया ♥♥

Read more

बेसब्र | Unrequited LOVE

कोई उसे देखता है, उसे ख़बर नहीं है, मेरी हर नज़र में है वो, मुझे देखे वो क्या उसके पास वो नज़र नहीं हैं, जो उसकी याद के बगैर चला हो, ऐसा कोई सफ़र नहीं है, मैं बेसब्र हूँ उसके इंतज़ार में, क्या उसकी आँखों में कोई मंज़र नहीं, उसे मांगता हूँ दुआओं में हर […]

Read more

बरबाद | Unrequited LOVE

तेरे इश्क़ में इतना बरबाद हो चूका हूँ, मैं जिंदा तो हूँ मगर लाश हो चूका हूँ | Keyword Tag – sad love poems in hindi, long hindi poems, latest poem in hindi, sad poems on life in hindi, hindi poem, hindi kavita, love poem in hindi,  best poem in hindi,  love poetry in urdu

Read more

गुलाब | Eternal LOVE

मुद्दतों बाद कोई ऐसा ज़माल देखा है, तेरे गुलाब जैसे गालों पे जब से गुलाल देखा है ♥♥

Read more

तेरा साथ | Infinite LOVE

जिस्म में साँसे कम और तेरी यादें ज्यादा है, मैंने जिंदगी से ज्यादा तेरा साथ माँगा है ♥♥

Read more