Day: October 17, 2018

हसीन ख़्वाब | हिंदी शायरी

तुम होंठों पे जो यूँ उँगलियाँ रख लेती हो, चाँद पे जो तिल है उसे ढक देती हो, मैं तो शायर हूँ तन्हाइयों में रहता हूँ, तुम हसीन ख़्वाब हो       हर इक आँख में रहती हो ♥♥

Read more

इक आदमी | हिंदी कविता

चेहरे पे उदासी लिए शहर में घूमता रहा, वो इक आदमी जो खुशियाँ बेचने आया था |

Read more

तेरा आना | रोमांटिक शायरी

मेरे सामने तेरा यूँ आना हुआ, मेरे दिल का जां से जाना हुआ ♥♥

Read more