Day: October 19, 2018

मुसलसल | URDU Shayari

मोहब्बत मुसलसल पीछे पड़ी है, तेरी यादें छोटी और रातें बड़ी है ♥♥

Read more

ठहर | हिंदी कविता

तेरे आने से सहर हुई है, तेरे जाने से रातें ठहर गई है ♥♥

Read more