.

Friday, November 16, 2018

तलब | हिंदी शायरी


तुझसे इश्क की तलब
कभी गयी ही नहीं,
सब कुछ छोड़ दिया,
मगर तेरी यादें
मुझसे अलग हुयी ही नहीं ♥♥


1 comment:

If you want to leave comments. First preview your comment before publishing it to avoid any technical problem.