.

Saturday, January 5, 2019

जुबां | Rekhta


जो बात जुबां से कहनी थी वो इशारों में कह गई,
मिरे हिस्से की मुहब्बत उसकी आँखों में ही रह गई ।


No comments:

Post a Comment