.

Friday, February 15, 2019

अँधेरा | Hindi Poetry


इन उजालों से अब डरता हूँ मैं,
कहीं अँधेरा हो तो दिल को सुकूँ मिले।


No comments:

Post a Comment