.

Friday, February 15, 2019

लकीरों | Hindi Poetry


कभी सीने से भी लगा ले,
मैं सिर्फ़ तस्वीरों में रहना नहीं चाहता,

कभी तेरे हाथों को चूम ले,
मैं सिर्फ़ लकीरों में रहना नहीं चाहता ।


No comments:

Post a Comment