.

Sunday, February 24, 2019

तेरी ख़ुश्बू | Romantic Poetry


शहर भी बदला मगर हवा नही बदली,
तेरी ख़ुश्बू ने साँसों का हर जगह पीछा किया ।


No comments:

Post a Comment