.

Monday, February 18, 2019

मेहमाँ | Urdu Poetry


शहर का शहर परेशान रहा,
कोई अपना मेहमाँ बनकर आया है ।


No comments:

Post a Comment