.

Monday, April 8, 2019

मैखानों | Adhoora iSHQ


थोड़ी तिरी आँखों में थोड़ी मैखानों में गुज़रेगी,
मुहब्बत अभी तो सर चढ़ी है धीरे-धीरे उतरेगी ।


1 comment:

  1. ये क्या सोचेंगे ? वो क्या सोचेंगे ?
    दुनिया क्या सोचेगी ?
    इससे ऊपर उठकर कुछ सोच, जिन्दगीं सुकून
    का दूसरा नाम नहीं है
    kaka ki shayari

    ReplyDelete

If you want to leave comments. First preview your comment before publishing it to avoid any technical problem.