.

Wednesday, June 26, 2019

वो कौन था | Pyar Shayari


उम्र भर साथ रहा मगर कभी छुआ नहीं,
वो कौन था जो मेरा होकर भी मेरा हुआ नहीं ।


तसल्ली | Urdu Sher


मिरी मुस्कुराहट देखकर उन्होंने तसल्ली कर ली,
हमेशा ख़ुश रहना मुहब्बत का सलीका नहीं दोस्त ।


बर्क़-ए-जमाल-ए-यार | Urdu Shayari


बर्क़-ए-जमाल-ए-यार हमसे सहा ना गया,
अँधे हो गए मगर देखें बिना रहा ना गया ।


मुस्कुराए | Hindi Poetry


कोई भला अब मुस्कुराए भी तो कैसे,
जो नहीं है वो नज़र आए भी तो कैसे,

जिन्हें याद कर हम हर पल जीये,
उन्हें अब भूलकर मर जाए भी तो कैसे ।


तेरी सादगी | Hindi Shayari


वो ठंडा पानी और तेरी सादगी गिरती बर्क़ है,
शराब और तेरी आँखों में इतना ही फर्क़ है ।


Sunday, June 23, 2019

भुलाया नहीं | Sad Shayari


शायद भूल थी मेरी,
जो तुम्हें भुलाया नहीं,
.
जो इक उम्र दिल में रहा,
वो कभी नज़र आया नहीं ।


उलझाना | Hindi Shayari


उन्हें सिर्फ़ बातें बनाना आता है,
सिर्फ़ जुल्फ़ों को उलझाना आता है,

जिनके दिल में हम सुकूँ तलाशते रहे,
उन्हें बस इश्क़ में तड़पाना आता है ।


तन्हाई | Sad Poetry


हमनें रास्ते को उलझाए रखा,
मंजिल से फासला बनाए रखा,

कभी यूँ भी ना चले तिरी ज़ानिब,
हमनें तन्हाई से दिल लगाए रखा ।


मौसम | बारिश शायरी


कभी तेज हो जाती है तो कभी ठहर जाती है,
बारिश और तेरी याद का मौसम एक जैसा है ।



मुहब्बत बूढ़ी | Urdu Poetry


चार कदम चली और थक कर सो गई,
कच्ची उम्र में मुहब्बत बूढ़ी हो गई ।