.

Sunday, June 23, 2019

मुहब्बत बूढ़ी | Urdu Poetry


चार कदम चली और थक कर सो गई,
कच्ची उम्र में मुहब्बत बूढ़ी हो गई ।


No comments:

Post a Comment