.

Monday, July 8, 2019

इंतिज़ार | Hindi Poetry


उनके घर से निकलने के इंतिज़ार में है,
मैं नहीं मेरा इंतिज़ार तेरे प्यार में है ।


No comments:

Post a Comment