तिरे हिज़्र | Adhuri Mohbbat

गुलाब
चुभने लगे हैं
,
अब काँटों से मुहब्बत की जाय,
वस्ल होता तो आँखों से पीते,
तिरे हिज़्र में मैखानों में पी जाय ।
Tagged , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *