नज़रिया | हिंदी

बयान करने को पूरा दरिया था,
मगर कोई  जरिया ना मिला,
फिर एक दिन हिंदी मिली,
और फिर इक नज़रिया मिला |

Tagged , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *