ख़ुशबू | हिंदी शायरी

मैंने तुम्हें चाँद में ढूँढा है,
इश्क की कोई सूरत नहीं होती,
जब ख़ुशबू से मोहब्बत हो जाये,
तो फिर जिस्म की जरुरत नहीं
होती
 ♥♥

Tagged , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *