तक़दीर | Hindi Poems

दिल को अब कैसे करार मिले,
तेरा इश्क मिले या तेरा
इंतज़ार मिले
,
मेरी आँखों की तक़दीर भी
तेरे हाथों में है
,
इन्हें अश्क़ मिले या तेरा
दीदार मिले
  ♥♥


Tagged , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *