ऐ ज़िन्दगी | Hopeless

क्यों मैं इतना उदास हूँ,
क्यों मैं खुद से निराश हूँ,
ऐ ज़िन्दगी तू क्या
जाने टूटते ख्वाबो की चुभन
,
मैं जिन्दा भी हूँ मगर एक लाश हूँ |


Tagged , , , , , , , , , ,

4 thoughts on “ऐ ज़िन्दगी | Hopeless

  1. arre yaar… thoda positive bano na… 🙂

    1. Nothing serious. This is just a poetic expression! Cheer 🙂

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *