मुझे महसूस कर | Infinite Love

मैंने हर एक पल तुझे
महसूस किया है
,
तू भी तो मुझे कभी महसूस
कर
 ♥♥
अब
मैं जी ना पाऊंगा तेरे बिना
,
मुझे यूँ ना अब खुद से
दूर कर
 ♥♥
मैंने
ज़िन्दगी के हर एक पल में सिर्फ तुझे सोचा है
,
मेरी महोब्बत पे थोडा तो
गुरूर कर
 ♥♥

दुनिया
की फिक्र छोड़कर मैंने तुझसे महोब्बत की है
,
तू भी तो मेरी थोड़ी सी
फिक्र जरुर कर
 ♥♥
तुझसे
बिछड़ कर मैं जीना भी छोड़ दूंगा
,
क्या रोक दूँ मेरी तड़पती
धड़कन को
,
मुझे यूँ ना अब तू मजबूर
कर
 ♥♥
क्या
कहूँ अब मैं मेरी अश्को से भीगी आँखों को
,
क्या कहूँ मैं मेरे टूटते
ख़्वाबों को
,
मैं मेरी ज़िन्दगी से
ज्यादा तुझसे महोब्बत करूँगा
,
मेरा ये इश्क कबूल कर ♥♥
तेरे
बिना अब मेरा जिन्दा रहना मुमकिन नहीं,

मेरे दिल को अब ना तू
उसकी धड़कन से दूर कर
 ♥♥


Tagged , , , , , , , ,

12 thoughts on “मुझे महसूस कर | Infinite Love

  1. So much pain …. beautifully penned..

  2. beautiful… the pain can be while reading the poem… no words to praise…

    1. Thank you so much Ashish. Glad you like it 🙂

  3. Beautiful verses. Heart touching 🙂

  4. I so relate to these words MS….ek din yeh hoga zaroor ki awaaz aur ehsaas dono pahuchenge us tak!

    1. Shukriya 🙂 Aisi Asha karte hai ki aisa kbhi hoga jarur!

  5. Beautiful and nice one…..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *