खनक | ISHQ Shayari

इक
चेहरा ख़्याल से गुजरा
और आँखों को भनक ना हुई,
उसने ख़्वाबों में दस्तक दी
और पायल की खनक ना हुई ।

Tagged , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *