तवक़्क़ो | LOVE Shayari

किसी
से अब क्या तवक़्क़ो करे कोई
,
बेदिलों की बस्ती में दिल की बात कौन सुने ।
Tagged , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *