वस्ल | Sad Love Poems

तिरे
हिज़्र में मर मर के जीये
,
वस्ल की रात में घुट इंतिज़ार के पीये ।
Tagged , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *