दरिया-ए-महोब्बत से | Sad Shayari

तेरी
याद
जो फिर आने लगी है,
मेरी जान जाने लगी
है,

बड़ी मुश्किल से बाहर
निकाला है मैंने,

खुद को
दरिया-ए-महोब्बत से,

ना जाने क्यों आज फिर,

तेरी
यादें मुझे सताने लगी है
♥♥





Keyword Tag – Sad Shayari, Sad Love Poems, First Love Never Dies, Loneliness Is Killing me, Alone In Love, Broken Heart Poems, Crying In Love
Tagged

2 thoughts on “दरिया-ए-महोब्बत से | Sad Shayari

  1. बढ़िया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *